मधुमेह: प्रेशर सोर से बचाव के लिए पैरों की देखभाल बेहद जरूरी

हम पैरों को लेकर इतने चिंतित क्यों हैं?

मधुमेह रोगियों में पैरों की जटिलताएं आम होती हैं और इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। एक बार पैर की समस्या खुद को स्थापित कर लेती है, तो ठीक होने में बहुत मुश्किल होती है। पैरों में परिसंचरण भी कम हो सकता है, जो उपचार को मुश्किल कर देता है। मधुमेह नसों को भी प्रभावित कर सकता है, इसलिए  त्वचा दर्द, स्पर्श और तापमान के प्रति कम संवेदनशील हो जाती है। जैसा कि हम जानते हैं कि मधुमेह रोगियों में संक्रमण का खतरा हमेशा रहता है और बिना पता चले भी पैरो में अल्सर हो सकता है। किसी भी तरह की कटौती, चोट या अल्सर से बचने के लिए नियमित रूप से पैरों की विशेष देखभाल की बहुत आवश्यकता होती है।

अगर हम देखभाल नहीं करें, तो क्या समस्याएं हो सकती हैं?

  • जूते में कॉर्न, कैलस और पत्थरों जैसी चीजों से पैरों के तलवों पर दबाव हो सकता है।
  • ठीक होने में कठिनाई के कारण मामूली कटौती भी एक बड़ी समस्या बन सकती है।
  • पैर के अंगूठे की समस्याएँ जैसे कि पैरोनाईकिया (नाखून के आसपास संक्रमण) और अंतर्वर्धित नाखून बदतर हो सकते हैं।
  • पैरों की नियमित जाँच द्वारा मधुमेह रोगियों में इन समस्याओं को रोकना ही सबसे अच्छा उपाय है।

हमें क्या करना चाहिये?

  • रक्त शर्करा को नियंत्रण में रखें
  • धूम्रपान नहीं करें
  • रोजाना पैरों की जांच करें
  • यदि आवश्यक हो तो तलवों का निरीक्षण करने के लिए दर्पण का उपयोग किया जा सकता है।
  • यदि दृष्टि खराब है, तो किसी और को भी जांच के लिए कहा जा सकता है
  • यदि पैरों में कोई घाव, संक्रमण या असामान्य लक्षण विकसित हों तो अपने डॉक्टर से मिलें।
  • पैर की उंगलियों के बीच की जाँच करना नहीं भूलें।

निर्देशानुसार रोजाना पैर धोएं:

- पैर धोने के लिए गुनगुना पानी का उपयोग करें (जलन से सावधान रहें)

- पैरों को अच्छी तरह से साफ करें और सुखाएं, खासतौर पर पैर की उंगलियों के बीच।

- सूखी त्वचा को (विशेष रूप से एड़ी के आसपास) नरम करने के लिए लानोलिन / वैसलीन / फुट क्रीम का उपयोग करें


नियमित रूप से पैर के अंगूठे के नाखूनों की देखभाल करें:

- पैरों के नाखूनों को सीधे क्लिप करें।

- नाखूनों को कोनों या बहुत छोटे हिस्से में काटें।

- नाखूनों के खुरदुरे किनारों को बराबर कर दें, यदि हो तो।


  • प्रतिदिन साफ ​​सूती या ऊनी मोजे पहनें लेकिन रबर बैंड वाले मोजे से बचें।
  • परिसंचरण के चालन में मदद करने के लिए अपने पैरों का रोजाना व्यायाम करें।
  • हर हफ्ते या उन्हें पहनने से पहले जूतों की इंसाइड चेक करें।

पैरों की चोट से बचने के लिए मुख्य बिन्दु:

  • हमेशा अच्छी फिटिंग वाले, आरामदायक चमड़े के जूते पहनें।
  • जूते शुरू से ही फिट होने चाहिए।
  • जूते बहुत तंग या बहुत ढीले नहीं होने चाहिए।
  • याद रखें- कभी भी नंगे पैर चलें, खासकर बाहर।
  • यदि आपको पैरों तक पहुँचने में कठिनाई हो या आँखों की रोशनी कम हो, तो अपने स्वयं के अंगुठे के नाखूनो को काटने की कोशिश करें।
  • पैर की समस्याओं के लिए घरेलू उपचार से बचें।
  • बगीचे में, घर में और आसपास चलते समय हमेशा सावधान रहें।
  • मधुमेह वाले व्यक्ति को बगीचे में धारदार वस्तुएं, फैला हुआ नाखून और फर्श के स्तर पर बेड के तेज कोनों से बचना चाहिए।
  • कभी भी पैरों पर गर्म पानी की बोतल या हीटिंग पैड का इस्तेमाल करें, हमेशा गुनगुने पानी का उपयोग करें।
  • कभी भी पैरों से पानी का तापमान देखें क्योंकि यह बिना जाने पैरों को जला सकता है।
  • खुली आग या हीटर के सामने बैठने पर अतिरिक्त सावधानी बरतें।

यदि मौजूद हो तो कट और चोटों का उपचार कैसे करें:

  • घावों को एक हल्के एंटीसेप्टिक जैसे तरल सैवलोन / डेटॉल या पतला बेताडीन से साफ करें।
  • घाव को ध्यान से साफ गॉज और सर्जिकल टेप से कवर करें।
  • यदि आप चिंतित हैं तो डॉक्टर से मिलें, विशेष रूप से अगर घाव 2 दिनों में ठीक नहीं होता है या लालिमा, गर्मी और कोमलता जैसे संक्रमण के लक्षण हो।
  • यदि पैर की देखभाल में कोई समस्या हो और विशेष रूप से शारीरिक कमजोरी की स्थिति में, जब टॉन्सिल, कॉर्न्स और कॉलस की देखभाल मुश्किल हो, तो विशेषज्ञ पोडिएट्रिस्ट के पास जाएँ।

आपको डॉक्टर से कब अवश्य मिलना चाहिए?

  • यदि किसी शारीरिक गतिविधि के दौरान नितंबों, जांघों या पिंडलियों या पैरों में ऐंठन होती है।
  • झुनझुनी, जलन या पैरों में दर्द।
  • अगर किसी भी तरह की गर्मी या ठंड को महसूस करने की क्षमता या स्पर्श करने की क्षमता की कमी।
  • अगर समय के साथ पैरों के आकार में बदलाव आता है।
  • यदि आपके निचले पैरों और अंगूठे के बाल झड़ने लगे।
  • यदि पैरों पर कोई सूखापन, टूटी हुई त्वचा है।
  • यदि पैरों के रंग और तापमान में कोई परिवर्तन हो।
  • यदि पैरो के अंगूठे का नाखून गाढ़ा पीला / काला हो जाता है।
  • पैर की उंगलियों के बीच एथलीट फुट जैसे फंगल संक्रमण हो।
  • यदि पैरो में छाला, पीड़ादायक अल्सर, संक्रमित कार्न, या अंतर्वर्धित नाखून मौजूद हों।


























Comments

Popular posts from this blog

Design equations of Rectangular Microstrip Patch Antenna

Spotters in "Hospital Waste Management" for CFM & MPH students

Spotters in "Environment and Health: Mosquito control Measures" for CFM & MPH students

ORS : A boon in dehydration

Spotters in "Environment and Health: Mosquitoes- Anopheles" for CFM & MPH students

Spotters in "Environment and Health: Insecticides" for CFM & MPH students

Spotters in "Nutrition and Health: Balanced diet models" for CFM & MPH students

How to design a reconfigurable antenna? Step-by-step process.